देश की बेटी काम्या ने एशिया के बाहर सबसे ऊंची चोटी पर फहराया तिरंगा 

नई दिल्ली : एन पी न्यूज 24 – देश में प्रतिभाओ की कोई कमी नहीं है. खासकर लड़किया जिस तेज़ी से अपना नाम बना रही है वह काबिलेतारीफ है. अब देश की 12 साल की छात्रा काम्या कार्तिकेयन ने एशिया के बाहर सबसे ऊंची चोटी माउंट एकांकगुया पर जीत हासिल की है. काम्या ऐसा करने वाली सबसे युवा पर्वतारोही बन गई है. काम्या कार्तिकेयन मुंबई के नवी चिल्ड्रन स्कूल में सातवीं कक्षा की छात्रा है.

माउंट एकांकगुया  की ऊंचाई 6969 मीटर है. कार्तिकेयन ने 1 फरवरी को पर्वत शिखर पर तिरंगा फहराया।

नौसेना अधिकारियो ने बताया कि काम्या के लंबे समय के शारीरिक, मानसिक और साहसिक खेलो में नियमित भागीदारी और कठिन परिश्रम से उन्हें मुश्किल परिस्थियों में चढ़ाई पूरी करने में मदद मिली। काम्या के पिता एस. कार्तिकेयन भारतीय नौसेना में कमांडर है और उनकी मां पेशे से शिक्षिका है.

काम्या ने इससे पहले भी कई ऊंचे पहाड़ों पर चढ़ाई की है. इससे पहले  उन्होंने 24 अगस्त 2019 को कठिन परिस्थियों में लद्दाख की 6260 मीटर ऊंची माउंट मेन्टोक कांगड़ी पर 2 बार जीत हाशिल कर चुकी है. काम्या ने इसकी तैयारी 3 साल की उम्र से ही शुरू कर दी थी. तब वह लोनावला में बेसिक ट्रैक पर जाती थी. 9 साल की उम्र में काम्या ने अपने माता-पिता के साथ उत्तराखंड में कई हाई अल्टीट्यूड ट्रैक किये। 10 साल की उम्र में काम्या नेपाल में 5346 मीटर की ऊंचाई पर स्थित एवेरेस्ट बेस कैंप पहुंच गई थी. काम्या माउंट स्टोक कांगड़ी पर पहुंचने वाली सबसे कम उम्र की माउंटनियर भी रही है.

Leave A Reply

Your email address will not be published.