बाप्पा के स्वागत के लिए येरवड़ा जेल के कैदियों का ढोल पथक

पुणे :  – इस साल पुणे के गणेशोत्सव में पहली बार येरवड़ा जेल के कैदियों का ढोल पथक होगा। उसके लिए उन्हें पिछले कई दिनों से प्रशिक्षण भी दिया जा रहा है।

कैदियों के लिए जेल प्रशासन द्वारा कई सामाजिक, सांस्कृतिक उपक्रम कार्यान्वित किए जाते हैं। इन्हीं उपक्रमों में इस बार कैदियों के ढोल ताशा पथक का समावेश किया गया है। कैदियों में होनेवाली कला को प्रोत्साहन देना यह भी एक हेतु इसके पीछे है। येरवड़ा के खुले कारागृह परिसर में करीबन चालीस से अधिक कैदियों को ढोल ताशा का प्रशिक्षण दिया गया है। पुणे के बहुचर्चित नादब्रह्म ढोल ताशा पथक द्वारा कैदियों को ढोल बजाने के गुर सीखाए गए हैं।

येरवड़ा जेल में हर साल गणेशोत्सव मनाया जाता है। अब इस साल बाप्पा की शोभायात्रा निकली जाएगी जिसमें उक्त कैदियों का पथक शामिल होगा। इसके अलावा शहर के अन्य जाने माने गणेश मंडलों की शोभायात्रा में भी यह कैदियों का पथक ढोल बजाता नजर आएगा। जिन कैदियों के बर्ताव में सुधार आ रहा है उन्हीं कैदियों को पथक में शामिल किया गया है।

इस संदर्भ में येरवड़ा जेल के अधीक्षक यू. टी. पवार ने बताया कि इस गणेशोत्सव में पहली बार कैदियों का ढाेल पथक सहभाग लेगा। इस पथक में 22 से 26 कैदियों का समावेश किया गया हैं। लक्ष्मी रोड पर उक्त पथक बाप्पा का स्वागत करते दिखाई देगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.