निर्मला सीतारमण ने पांचवी और आखिरी प्रेस कॉन्फ्रेंस, मनरेगा के तहत अतिरिक्त 40 हजार करोड़ रुपए का ऐलान

नई दिल्ली. एन पी न्यूज 24 – प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा घोषित किए गए 20 लाख करोड़ रुपये के आर्थिक राहत पैकेज पर जानकारी के लिए रविवार को वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने पांचवी और आखिरी प्रेस कॉन्फ्रेंस की। उन्होंने बताया कि कोरोना वायरस के कारण उत्पन्न स्थिति के मद्देनजर प्रवासी श्रमिकों के अपने-अपने घर लौटने के कारण उन्हें स्थानीय स्तर पर रोजगार उपलब्ध कराने के उद्देश्य से मनरेगा के लिए 40 हजार करोड़ रुपये का अतिरिक्त आवंटन किया जा रहा है। चालू वित्त वर्ष के बजट में मनरेगा के लिए 61 हजार करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है, लेकिन कोरोना वायरस के कारण उत्पन्न स्थिति के मद्देनजर अब 40 हजार करोड़ रुपये का अतिरिक्त आवंटन किया जा रहा है। वित्त मंत्री ने कहा कि प्रोत्साहन पैकेज की पांचवीं किस्त में सात मुद्दों ‘मनरेगा, स्वास्थ्य एवं शिक्षा, कारोबार, कंपनी अधिनियम को गैर-आपराधिक बनाने, कारोबार की सुगमता, सार्वजनिक उपक्रम और राज्य सरकारों से जुड़े संसाधन पर ध्यान दिया जा रहा है।

प्रेस कॉन्फ्रेंस की शुरुआत में निर्मला सीतारमण ने कहा कि मजदूरों को घर ले जाने के लिए ट्रेनें चलाई गई हैं। मजदूरों को ट्रेनों से ले जाने का 85 फीसदी खर्च केंद्र सरकार ने वहन किया है। 15 फीसदी खर्च राज्य सरकारों ने किया है। श्रमिकों को ट्रेनों में खाना भी उपलब्ध कराया गया। आठ करोड़ प्रवासी मजदूरों के लिए राशन की व्यवस्था की है।

वित्तमंत्री की 3 खास बातें –
1.सीतारमण ने एलान किया है कि पीएम-ई विद्या लॉन्च किया जाएगा। इससे बहुआयामी ई-शिक्षा तक पहुंच को बढ़ावा मिलेगा। आत्म निर्भर भारत अभियान की पांचवीं और आखिरी किश्त के दौरान उन्होंने इस बारे में घोषणा की।
2.अब देश में हर ब्लॉक में सार्वजनिक स्वास्थ्य लैब की स्थापना की जाएगी।  आत्म निर्भर भारत अभियान की पांचवीं और आखिरी किश्त के दौरान उन्होंने इस बारे में घोषणा की।
3. सरकार नयी लोक उपक्रम नीति लायेगी जिसमें सभी सेक्टरों को निजी क्षेत्र की कंपनियों के लिए खोला जायेगा। लोक उपक्रम चुनिंदा रणनीतिक क्षेत्रों में ही कारोबार कर सकेंगे। इन सेक्टरों को नोटिफाई किया जायेगा।  यदि किसी रणनीतिक क्षेत्र में चार से अधिक सार्वजनिक कंपनी होगी तो उनका विलय या निजीकरण किया जायेगा।

Leave A Reply

Your email address will not be published.