स्त्री घर की लक्ष्मी, उसका अंग-अंग पवित्र

0

नई दिल्ली. एन पी न्यूज 24 –स्त्री को घर की लक्ष्मी कहा जाता है। भारतीय समाज में उसे देवी का दर्जा देकर आदि शक्ति का स्वरूप माना जाता है। प्रकृति ने भी उसे ऐसी नेमत से नवाजा है की उसके बिना संसार की सरंचना ही अधूरी है। औरत किस तरह अपने पति का भाग्य बदल सकती है इस बात का उल्लेख भी हमारे शास्त्रों में किया गया है। अब आज हम आपको बताने जा रहे हैं कि एक स्त्री का कौन सा भाग पवित्र होता है। ज्योतिष के अनुसार एक ब्राह्मण के पैर पवित्र होते हैं,  वहीं एक गाय का पिछला भाग पवित्र माना जाता है। जी हाँ, एक स्त्री के शरीर का हर स्थान पवित्र होता है। इसके लिए संस्कृत में एक श्लोक भी है जिसका मतलब है, जहाँ स्त्री की पूजा हो वहां भगवान वास करते हैं और जहाँ ना हो वहां भगवान गलती से भी नहीं आते हैं।

वाल्मीकि रामायण में एक प्रसंग के अनुसार माँ सीता जब अशोक वाटिका में थी तो उन्होंने त्रिजटा से कहा था कि उनके अंग लक्षण ऐसे हैं कि उनके पति श्रीराम एक दिन राजा जरूर बनेगे, उनका राज्याभिषेक होना तय है। उस दौरान सीता ने महिलाओं के कुछ ऐसे  अंग लक्षणों का जिक्र किया था जो उनके पति के भविष्य से जुड़ी कुछ दिलचस्प बातें बताते हैं।

1.जिन महिलाओं के पैरो में कमल चिह्न होता हैं, उनका पति राजाओं की भाति जीवन व्यापन करता हैं
2.जिन महिलाओं के बाल काले, पतले और सुन्दर होते हैं उनके पति का भाग्य काफी प्रबल रहता हैं।
3.जिन महिलाओं की भौंहें धनुषाकार और सुन्दर होती हैं वो अपने पति के दुर्भाग्य को सौभाग्य में बदलने की क्षमता रखती हैं।
4.जिन महिलाओं की जंघा रोम रहित होती हैं उनके पति विलासिता वाला संपन्नपूर्ण जीवन व्यापन करते हैं।
5.जिन महिलाओं के दांत मोती सामान सुन्दर होते हैं उनके पति शक्तिशाली और प्रभावी व्यक्तित्व के होते हैं.
6.जिन महिलाओं के नाखून गोल और चिकने होते हैं उनके पति इज्जतदार, अमीर, खुशहाल होते हैं।
7.जिन महिलाओं का रंग गौर और त्वचा मखमली होती हैं उनके पति में कोई खामी नहीं होती हैं।

Leave A Reply

Your email address will not be published.