आजाद भारत में पहली बार विकास दर के मुकाबले महंगाई नहीं बढ़ी : राजनाथ

0

नई दिल्ली, 6 जनवरी (आईएएनएस)| रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने यहां रामलीला मैदान में सोमवार से शुरू हुए व्यापारियों के सबसे बड़े सम्मेलन में आश्वासन दिया कि देश की अर्थव्यवस्था में जल्द सुधार होगा। उन्होंने सरकार के बचाव में यह सफाई भी दी कि दुनिया के कई विकसित देशों के मुकाबले भारत वैश्विक आर्थिक मंदी से कम प्रभावित है, साथ ही उन्होंने दावा किया कि आजाद भारत में पहली बार विकास दर के मुकाबले महंगाई दर को मोदी सरकार ने बढ़ने नहीं दिया।

राजनाथ ने कंफेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स की ओर से आयोजित तीन दिवसीय राष्ट्रीय व्यापारी महाअधिवेशन का उद्घाटन करते हुए व्यापारियों को देशभक्त बताया और कहा कि उनकी समस्याओं को लेकर सरकार संजीदा है। उन्होंने कहा कि जीएसटी को लेकर जो भी कठिनाई व्यापारियों के सामने आ रही है, उसे सरकार दूर कर रही है।

राजनाथ ने व्यापारियों के इस सम्मेलन में अर्थव्यवस्था पर सरकार की तरफ से प्रतिक्रिया दी। उन्होंने कहा, “जहां तक देश की अर्थव्यवस्था का सवाल है तो कुछ लोग यह कह सकते हैं कि पिछले कुछ वर्षो की तुलना में ग्रोथ रेट कम हुआ है। लेकिन भारत ही नहीं दुनिया के कई विकसित देश इस वैश्विक आर्थिक मंदी से प्रभावित हैं। सच तो यह है कि दुनिया के विकसित देश हमारे मुकाबले ज्यादा इस मंदी से प्रभावित हैं।”

राजनाथ सिंह ने पिछली राजग और संप्रग सरकारों के दौरान भी देश के इस तरह की मंदी का सामना करने की बात कही। उन्होंने कहा, “आजाद भारत के इतिहास के पन्नों को पलटकर देखें तो हर दशक में एक ऐसा दौर आया है। अटल बिहारी बाजपेयी की सरकार से लेकर मनमोहन सिंह की सरकार में वैश्विक आर्थिक मंदी का दौर चला था। लेकिन अटल बिहारी वाजपेयी सरकार ने वैश्विक आर्थिक मंदी से देश को निकालने में कामयाबी हासिल की थी। भारत में ऐसी आंतरिक शक्ति है, जो देश को ऐसी मंदी की समस्याओं का सामना करने की ताकत प्रदान करती है।”

राजनाथ ने व्यापारियों से कहा, “मैं आपको आश्वासन देता हूं कि वैश्विक आर्थिक मंदी के कारण जो भी समस्याएं सामने आ रही हैं, हम जल्द उन पर विजय प्राप्त कर लेंगे।”

उन्होंने देश में महंगाई रोकने में मोदी सरकार को सफल बताया और कहा, “आजाद भारत में यह पहला अवसर है, जब हमारी सरकार ने ग्रोथ रेट के मुकाबले महंगाई को बढ़ने नहीं दिया। पहले नॉर्मल ग्रोथ रेट के मुकाबले महंगाई की दर डेढ़ गुना, दो गुना और ढाई गुना तक बढ़ती थी। मगर पिछले साढ़े पांच वर्षों में हमारी सरकार ने महंगाई दर को बढ़ने नहीं दिया। कहीं न कहीं इस सरकार ने ऐसा कुछ किया, जिससे महंगाई नहीं बढ़ी।”

Leave A Reply

Your email address will not be published.