विधानसभा चुनाव

मावल में मचा सियासी घमासान; मंत्री भेगड़े व प्रबल इच्छुक शेलके के समर्थक भिड़े

पिंपरी: एन पी न्यूज 24 – हालांकि अभी विधानसभा चुनाव की घोषणा होनी बाकी है, मगर मावल तालुका में चुनावी घमासान अभी से छिड़ गया है। मावल विधानसभा चुनाव क्षेत्र में श्रम व पुनर्वसन राज्यमंत्री बाला भेगड़े को भाजपा की ओर से प्रबल इच्छुक रहे सुनील शेलके ने कड़ी चुनौती दी है। दोनों नेताओं और उनके समर्थकों के बीच घमासान मचा हुआ है। इस कड़ी में गुरुवार की रात शेलके के एक करीबी कार्यकर्ता कल्पेश मराठे के साथ जबरदस्त मारपीट की गई है। उनके समर्थकों का आरोप है कि यह हमला मंत्री भेगड़े के समर्थकों द्वारा किया गया है। हालांकि भेगड़े ने इससे इनकार करते हुए आपसी झगड़े को सियासी रंग न देने की सलाह दी है। बहरहाल दोनों गुटों की शिकायतों के आधार पर तलेगांव दाभाड़े एमआईडीसी पुलिस ने परस्पर विरोधी मामले दर्ज किए हैं।
प्राप्त जानकारी के अनुसार, बीती रात कल्पेश मराठे गणेश मंडल की आरती में गए थे। आरती के बाद वे अपने दोस्तों के साथ बतियाते खड़े थे, तब कार व दोपहिया से आये कुछ लोगों ने उनपर यह कहकर हमला कर दिया कि तुम शेलके के पीछे क्यों घूमते हो? हमलावरों ने उनपर रॉड और डंडों से हमला किया। इसमें कल्पेश के दोनों हाथ- पैर और सिर में गहरी चोटें आई हैं। उनका एक निजी अस्पताल में इलाज जारी है। उनकी शिकायत के आधार पर पुलिस ने संदीप भेगडे, बेल्लू उर्फ अजय भेगडे, प्रतीक भेगडे, अविष्कार भेगडे, अनिकेत भेगडे समेत छह आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। इस घटना के बाद शेलके औऱ भेगड़े गुट आमने- सामने आ जाने से पूरे तलेगांव दाभाड़े में तनाव की स्थिति बनी हुई है। पुलिस ने अनुचित घटना टालने के लिए यहां कड़ा बंदोबस्त तैनात किया है।
बहरहाल भेगड़े गुट की ओर से भी शेलके गुट के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई गई है। प्रतीक भेगड़े ने कल्पेश के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है कि, बीती रात मगलूर जाये वक्त वाराले फाटा में उनकी गाड़ी गड्ढे में चली गई और उसमें भरा पानी एक व्यक्ति पर उड़ा। उन्होंने उसके लिए माफी भी मांगी फिर भी उनके साथ बांबू से मारपीट की गई। इस शिकायत के अनुसार पुलिस ने मामला दर्ज किया है। इस पूरे मामले में सुनील शेलके ने राज्यमंत्री बाला भेगड़े पर आरोप लगाते हुए कहा कि, इस हमले में भेगड़े के परिवार के कुछ सदस्य भी शामिल हैं। मावल की जनता अब दादागिरी और दहशतगर्दी बर्दाश्त नहीं करेगी। चुनाव लोकशाही के रास्ते लड़ा जाना चाहिए। वहीं मंत्री भेगड़े ने सभी आरोपों से इनकार करते हुए कहा कि, मामूली विवाद में कुछ युवकों के बीच झगड़ा हुआ है, इसे सियासी रंग नहीं दिया जाना चाहिए।

More Reading

Post navigation

Leave a Comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *